Option Trading kya hai in Hindi

Option Trading एक वित्तीय व्यापारिक उपकरण है जिसमें वित्तीय वस्त्रों को खरीदने और बेचने के अधिकार को ट्रेडर को प्राप्त करने की अनुमति देता है। यह एक आपसी समझौता होता है जिसमें खरीदार एक निश्चित समयावधि के लिए वित्तीय वस्त्र को निर्धारित मूल्य पर खरीदने या बेचने का अधिकार रखता है। इसे विपणन या विनिमय तंत्र में इस्तेमाल किया जाता है और यह एक प्राथमिक उपकरण है जिसका उपयोग कर्मचारियों, निवेशकों, वित्तीय संस्थानों, ट्रेडरों और आर्थिक व्यापारियों द्वारा किया जाता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग का मूल उद्देश्य वित्तीय सौदों को नियंत्रित करना होता है। यह ट्रेडर को मौका प्रदान करता है अनुमानित मूल्य की उत्पादों, संकेतकों, सौदों और बाजारों के लिए वित्तीय अवसरों को देखने का और उन्हें उपयुक्त तरीके से निष्पादित करने का। इसके अलावा, यह उचित रिस्क-नामूने निष्पादन के माध्यम से पूंजी के प्रबंधन का भी एक माध्यम है।

ऑप्शन ट्रेडिंग में दो प्रमुख पक्ष होते हैं – कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन। कॉल ऑप्शन, ट्रेडर को संपदा को निर्धारित मूल्य पर खरीदने या बेचने का अधिकार देता है, जबकि पुट ऑप्शन, ट्रेडर को संपदा को निर्धारित मूल्य पर बेचने या खरीदने का अधिकार देता है। कॉल और पुट ऑप्शन की मुद्राएं विभिन्न संदर्भों में उपयोग होती हैं और ट्रेडर को वित्तीय वस्त्रों के आंकड़ों और मूल्यों के साथ-साथ विभिन्न बाजार नीतियों के खिलाफ बचाव करने की अनुमति देती हैं।

इस बुक को ख़रीदे और  Share Market  & Option Trading में सफलता पाइएhttps://amzn.to/46aJ7J5

ऑप्शन ट्रेडिंग के कई लाभ हैं। पहले, यह ट्रेडर को कम पूंजी के साथ बड़े मात्रा में निवेश करने की अनुमति देता है। ट्रेडर सिर्फ ऑप्शन की मांग के लिए प्रीमियम भुगतान करता है और उसे निर्धारित मूल्य पर खरीदने या बेचने का अधिकार प्राप्त होता है। दूसरे, यह ट्रेडर को बाजार में कीमती मांग के बदलते स्तरों के अनुरूप स्थिति बनाने की अनुमति देता है। अगर ट्रेडर किसी संपदा की मांग बढ़ने या घटने का अनुमान लगा रहा है, तो वह उसे कॉल या पुट ऑप्शन के माध्यम से खरीदकर इससे लाभ उठा सकता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग के साथ-साथ कुछ संकेतकों का भी अध्ययन करना महत्वपूर्ण है। ये संकेतक वित्तीय बाजार के लिए मूल्यांकन के रूप में कार्य करते हैं और ट्रेडर को सही निर्णय लेने में मदद करते हैं। कुछ महत्वपूर्ण संकेतक शामिल हैं – वॉल्यूम, खुले और बंद होने की कीमतें, उच्च और निचले स्तर, संदर्भीय औसत, रुझान, और स्थायित्व। इन संकेतकों का उपयोग करके ट्रेडर सामरिक मूल्यांकन, वाणिज्यिक समीक्षा, राजनीतिक इवेंट्स आदि के प्रभाव को समझ सकता है और अपनी ट्रेडिंग के निर्णयों को आधारित कर सकता है।

इस बुक को ख़रीदे और  Share Market  & Option Trading में सफलता पाइएhttps://amzn.to/46aJ7J5

ऑप्शन ट्रेडिंग के साथ कुछ सावधानियां भी होनी चाहिए। पहले, ट्रेडर को अच्छी तरह से समझना चाहिए कि विकल्प के वैध समयावधि क्या होती है और इसे समय पर बिक्री करने की आवश्यकता होती है। दूसरे, यह महत्वपूर्ण है कि ट्रेडर अपनी आर्थिक स्थिति की निर्धारित करे और निवेश करने से पहले विश्लेषण करे। इसके अलावा, नए ट्रेडरों को पहले अवश्यक ज्ञान और अनुभव प्राप्त करना चाहिए और शुरुआती निवेशों को सीमित रखना चाहिए।

ऑप्शन ट्रेडिंग वित्तीय व्यापार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह व्यक्ति को वित्तीय स्वतंत्रता, आय की नई संभावनाएं और निवेश और वित्तीय बाजारों के खिलाफ सुरक्षित बचाव की अनुमति देता है। यह तरीका समय, शोध, अध्ययन और समझदारी की मांग करता है, लेकिन सही तरह से उपयोग करने पर इससे आर्थिक सफलता की प्राप्ति संभव है।

Share Market & Option Trading में इन्वेस्टमेंट करने के लिए एक Demat Account की जरुरत होती है ..

Top 5 Broker Demat Account  Link : 

1. Angel one – https://angel-one.onelink.me/Wjgr/9it9p151

2. Upstoks – https://link.upstox.com/ce8Q

3. Groww – https://app.groww.in/v3cO/8u4d4bfm

4. 5Paisa – https://5paisa.page.link/uEXbMp9BxoRjjRvy7

5. M.Stocks – https://ekyc.miraeassetcm.com/Register-with-us?ref=REF161521%26refsrc=2

#atozknowledge #sharemarket #optiontrading #stockmarket #nse #bse #sharemarketlive #tradingday @whatissharemarket

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *